Followers

Copyright

Copyright © 2022 "आहान"(https://aahan29.blogspot.com) .All rights reserved.

Friday, July 1, 2022

वैश्विक धरोहर



दुनिया में बहुत से ऐसे पुल हैं जिनको बनाने वाले इंजीनियरों की तारीफ़ सभी करते हैं ।उनकी खूबसूरती और मज़बूती की 

चर्चाएँ भी अक्सर हुआ करती है । गोल्डन गेट ब्रिज, सनफ्रांसिस्को, यूनाइटेड स्टेट्स , टॉवर ब्रिज, लंदन, इंग्लैंड और सिडनी 

हार्बर ब्रिज, सिडनी, ऑस्ट्रेलिया ऐसे ही विश्व प्रसिद्ध पुलों के उदाहरण हैं ।

            भारत में भी एक ऐसा ब्रिज है जो अपने आप में अद्भुत है इस पुल की खास बात ये है कि यह पेड़ की जड़ों बना हुआ है  । 

यह पुल पेड़ों की जिंदा जड़ों से धागे की तरह बुनकर बनाया 

गया है । मेघालय की खासी और जयंतिया जनजाति के लोगों 

को यह कला सदियों से अपने पूर्वजों द्वारा विरासत में मिलती 

चली आ रही  है ।चेरापूंजी में इन्हीं लोगों द्वारा बनाये गये 

डबल डेकर पुल को यूनेस्को द्वारा वर्ल्ड हेरिटेज साइट भी 

घोषित किया हुआ है ।

                   कहते हैं ये पुल रबर के पेड़ की जड़ों से बनते हैं 

एक पुल को सही आकार देने में दस से पन्द्रह साल तक 

लग जाते हैं  ।ये पुल घने जंगलों में नदियों के ऊपर आवाजाही 

के लिए बनाए जाते हैं ।खासी-जयंतिया जनजाति के वंशज 

अपनी प्राचीन  कला कौशल को संरक्षित रखने के साथ-साथ सीमित संसाधनों में आत्मनिर्भर जीवन यापन का अनूठा 

आदर्श प्रस्तुत करते हैं ।


विटप सेतु ~

वैश्विक धरोहर

मेघालय में ।

36 comments:

  1. महत्वपूर्ण जानकारी दी है आपने मीना जी, इस अदभुत सृजन के बारे में मैं नहीं जानती थी। भारत में ही इतनी अनमोल कृति है जिसके बारे में हम नहीं जानते लेकिन विदेशो की जानकारी जरुर रखते हैं। ऐसे अनमोल कृति से अवगत करवाने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद आपको 🙏

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी स्नेहिल उपस्थिति से उत्साह द्विगुणित हुआ।हार्दिक आभार कामिनी जी !
      सादर स्नेहिल वन्दे 🙏

      Delete
  2. ऐसी अनमोल जानकारी देने के लिए आप साधुवाद की पात्र हैं मीना जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर नमस्कार जितेंद्र जी ! आपकी उत्साहवर्धन करती सराहना हेतु हार्दिक आभार 🙏

      Delete
  3. अद्भुत पुल
    है जानकारी युक्त
    सुंदर लेख ।

    नई जानकारी देने के लिए आभार ।

    ReplyDelete
  4. स्नेहमयी दी !
    उत्साह संवर्द्धक
    आपका आना ।
    हार्दिक आभार 🙏 सस्नेह सादर वन्दे 🙏

    ReplyDelete
  5. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (3-7-22) को "प्रेम और तर्क"( चर्चा अंक 4479) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    ------------
    कामिनी सिन्हा

    ReplyDelete
    Replies
    1. चर्चा मंच की चर्चा में में सृजन को सम्मिलित करने के हृदयतल से आभार कामिनी जी !
      सस्नेह सादर वन्दे 🙏

      Delete
  6. महत्वपूर्ण जानकारी

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आ . ओंकार सर 🙏

      Delete
  7. प्रकृति का सुंदरतम उपहार । खासी जयंतियां जनजाति का कोटि कोटि आभार इतनी सुंदर कला को विकसित करने के लिए । मीना जी आपका बहुत आभार हम तक ये अनमोल जानकारी पहुंचाने के लिए ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना हेतु हार्दिक आभार जिज्ञासा जी ! सादर सस्नेह वन्दे !

      Delete
  8. महत्वपूर्ण जानकारी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन हेतु हार्दिक आभार ज्योति जी!
      सादर सस्नेह वन्दे !

      Delete
  9. आपकी लिखी रचना सोमवार 4 जुलाई 2022 को
    पांच लिंकों का आनंद पर... साझा की गई है
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    संगीता स्वरूप

    ReplyDelete
    Replies
    1. पाँच लिंकों का आनन्द में सृजन को साझा करने के लिए हृदयतल से हार्दिक आभार आ . दीदी ! सादर वन्दे!

      Delete
  10. वाह ये तो बहुत सारगर्भित जानकारी है !!धन्यवाद आपका इसे साझा करने हेतु !!

    ReplyDelete
  11. उत्साहवर्धन करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार अनुपमा जी ! सादर सस्नेह वन्दे !

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर जानकारी साथ सराहनीय हाइबन।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार अनीता जी ! सस्नेह वन्दे !

      Delete
  13. रोचक जानकारी धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना के लिए हार्दिक आभार रंजू जी ! सादर सस्नेह वन्दे !

      Delete
  14. अद्भुत एवं रोचक विषय वस्तु.

    ReplyDelete
  15. उत्साहवर्धन करती सराहना हेतु सादर आभार 🙏

    ReplyDelete
  16. iss pull ko dekhna ka sowbhagya hume nai mila :(
    landslide ke wajah se road bandh tha :(
    pichle mahine - may mahine mei gaye the

    ReplyDelete
  17. Kai baar aise awasr haath se nikal jaate hain. Aapka aana aur dil ki baat saajha karna bahut achcha laga . Thanks a lot .

    ReplyDelete
  18. प्रकृति के अनूठे स्वरूप अंचभित कर जाते हैं।
    रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी साझा करने के लिए आभार दी।
    प्रणाम दी
    सादर।

    ReplyDelete
  19. उत्साहवर्धन करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार श्वेता जी ! सस्नेह सादर वन्दे!

    ReplyDelete
  20. बहुत सुंदर जानकारी

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना के लिए हार्दिक आभार अनुज ।

      Delete
  21. बहुत सुंदर एवं सारगर्भित जानकारी के साथ लाजवाब हाइबन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना के लिए हार्दिक आभार सुधा जी ! सादर सस्नेह वन्दे!

      Delete
  22. बहुत सुंदर जानकारी देती पोस्ट।
    सच सुदूर अंचलों में, अपने जीवन को सहजता से चलाने के लिए ऐसे कितने अद्भुत कार्यों को अंजाम दिया जाता है ये हमारी सोच से भी परे है और आश्चर्यजनक भी।
    बहुत सुंदर पोस्ट।

    ReplyDelete
  23. पोस्ट आपको अच्छी लगी , सृजन सार्थक हुआ कुसुम जी ! हार्दिक आभार । सस्नेह सादर वन्दे !

    ReplyDelete
  24. उपयोगी जानकारी साँझा करने के लिए अभिनन्दन !

    ReplyDelete
  25. उत्साहवर्धन करती सराहना के लिए सादर आभार तरुण जी ।

    ReplyDelete