Followers

Copyright

Copyright © 2022 "आहान"(https://aahan29.blogspot.com) .All rights reserved.

Sunday, July 4, 2021

"महिला दिवस"

 चार-पाँच औरतें खिलखिलाती हुई होटल में लंच हॉल  में घुसी और कोने में व्यवस्थित सीटिंग व्यवस्था पर जा बैठी । शायद "रिजर्व" की तख्ती पर ध्यान देने की फुर्सत नहीं थी किसी के पास । सभी अपने अपने लुक्स पर फिदा थी और एक -दूसरे से ज्यादा सलीकेदार जताने की कोशिश में लगी थी तभी एक वेटर ने टेबल के पास आ कर अदब से सिर झुकाते हुए विनम्रता से कहा-"यह टेबल रिजर्व है मैम ,मैं आप लोगों के लिए दूसरी तरफ व्यवस्था कर देता हूँ ।"

"दूसरी तरफ क्यों ? जो नहीं आए उनके लिए भी तो व्यवस्था कर सकते हो ।" एक महिला ने रौब के साथ वेटर को लगभग झिड़कते हुए कहा ।

स्थिति की गंभीरता देख कर मैनेजर उनको दूसरी तरफ बैठाने की व्यवस्था का निर्देश देकर आगे बढ़ा

 ही था कि तीन लड़के और दो लड़कियों का समूह कंधों पर बैग लटकाए बिखरे बालों और अस्त-व्यस्त कपड़ों और लस्त-पस्त हालत में अपनी रिजर्व टेबल की ओर आगे बढ़ा । बैठने से पूर्व उनके चेहरों पर परेशानी और व्यग्रता साफ दिखाई दे रही थी ।

सीटों की अदला-बदली में कुछ पल की भिनभिनाहट जरूर हुई पर अन्तत: सब तरफ शांति थी और हल्के संगीत के साथ माहौल खुशनुमा । उधर महिलाएं दूसरी टेबल पर बैठ कर अपने

बिगड़े हुए मूड को ठीक करने के प्रयास में लगी थीं । ड्रेसस् और मेकअप के बारे में एकबारगी भूल अब उनके चर्चा का विषय टेबल पर बैठे युवक-युवतियों का समूह था । 

 "घर में यह 'शो' करेंगे बेचारों को समय ही नहीं मिलता । यहाँ क्या गुलछर्रे  उड़ रहे हैं । हम तो ऐसा सोच भी नहीं सकते थे ।" - किसी ने गहरी सांस भरते हुए कहा ।

"सच कहा तुमने आजादी तो इन्हीं के पास है । हमने तो घर-गृहस्थी की  चक्की में झोंक दिया खुद

 को ।"- दूसरी ने मानो बात पूरी की ।

"यार सेलिब्रेट करने आए हैं छोड़ो ये सब मूड मत ऑफ करो ।" उन्हीं में से एक ने विषय बदलने की कोशिश की ।

      पहली टेबल पर किसी प्रोजेक्ट की सक्सेस में आने वाली टेक्निकल प्रॉब्लम्स पर चर्चा के साथ स्टार्टरस की प्लेटें भी  साफ हो रही थी शायद भूख अपने चरम पर थी । तभी उनमें से एक लड़की ने माथे पर हाथ मारा - ओ शिट् .., मैं तो भूल गई थी । आधे घंटे में मेरी "वन ऑन वन" है । मैं जाती हूँ ,

तुम लोग लंच इंजॉय करो…,

"ठहर मैं भी चलती  हूँ ।" दूसरी ने फ्रेंच फ्राईज़ मुँह में लगभग ठूंसते हुए बैग उठाया ।

"यार इन लोगों का तो हो गया "महिला दिवस" 

बस ..,ट्रफिक ना मिले और ये पहुंच जाए टाईम 

से ।" - एक लड़के ने चिंता जताई । बाकी दो की आँखों में भी वहीं थी ।

चीयर्स !!! हैप्पी वीमन्स डे !!

 दूसरी टेबिल से ठहाका गूंजा । शायद वहाँ खाने से पूर्व ड्रिंक्स आ गईं थीं ।

पहली टेबिल पर खामोशी पसरी थी । 


***

54 comments:

  1. संदेशात्मक लघु कथा । कोई सिर्फ खा पी कर ही महिला दिवस मनाता है तो कोई काम में व्यस्त रह कर ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार आ.संगीता जी ।

      Delete
  2. बहुत ही सुंदर संदेशात्मक लघुकथा आदरणीय मीना दी दोनों पहलू बेहतरीन उकेरे है।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक
      आभार अनीता जी!

      Delete
  3. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार (5-07-2021 ) को 'कुछ है भी कुछ के लिये कुछ के लिये कुछ कुछ नहीं है'(चर्चा अंक- 4116) पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है।

    चर्चामंच पर आपकी रचना का लिंक विस्तारिक पाठक वर्ग तक पहुँचाने के उद्देश्य से सम्मिलित किया गया है ताकि साहित्य रसिक पाठकों को अनेक विकल्प मिल सकें तथा साहित्य-सृजन के विभिन्न आयामों से वे सूचित हो सकें।

    यदि हमारे द्वारा किए गए इस प्रयास से आपको कोई आपत्ति है तो कृपया संबंधित प्रस्तुति के अंक में अपनी टिप्पणी के ज़रिये या हमारे ब्लॉग पर प्रदर्शित संपर्क फ़ॉर्म के माध्यम से हमें सूचित कीजिएगा ताकि आपकी रचना का लिंक प्रस्तुति से विलोपित किया जा सके।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    ReplyDelete
    Replies
    1. चर्चा मंच पर सृजन को चर्चा में सम्मिलित करने के लिए सादर आभार आदरणीय रवींद्र सिंह जी!

      Delete
  4. आपकी लिखी रचना सोमवार 5 जुलाई 2021 को साझा की गई है ,
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    संगीता स्वरूप

    ReplyDelete
    Replies
    1. पांच लिंकों का आनन्द में रचना को साझा करने हेतु सादर आभार आदरणीया संगीता स्वरूप जी ।

      Delete
  5. समय के साथ सोच की परिधि भी बदली है. बहुत अच्छी कहानी.

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार डॉ. जेन्नी शबनम जी 🙏🙏

      Delete
  6. बहुत सुंदर कहानी,आज के समाज को हकीकत बयां करती हुई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार जिज्ञासा जी!

      Delete
  7. उव्वाहहहह..
    आज भी वाकई इसी तरह मनाया जाता है
    महिला दिवस..
    सुबह सार्थक हो गई
    सादर..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी ऊर्जावान प्रतिक्रिया से सृजन सार्थक हुआ । सादर आभार यशोदा जी!

      Delete
  8. जिन स्त्रियों को ध्यान में रखकर महिला दिवस का आह्वान किया गया है उनकी मानसिकता और जिन युवा बच्चियों को गैर जिम्मेदार समझा जाता है उनकी कर्मठता का अति महीन चित्र उकेरा है आपने दी।
    दिवस की महत्ता उससे मिली उपयोगिता को सिद्ध करने में है। सार्थक एवं प्रेरक संदेश देती बहुत सुंदर लघुकथा दी।
    प्रणाम
    सादर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी सारगर्भित सुन्दर प्रतिक्रिया से सृजन को सार्थकता मिली श्वेता जी ! हार्दिक आभार । सादर वन्दे।

      Delete
  9. Replies
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार अनीता जी!

      Delete
  10. सुंदरता से दोनों पक्ष रखे! बदलते समय के साथ नारी ने स्वयं को बदला भी है!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार अनुपमा जी!

      Delete
  11. सुंदर संदेशात्मक सृजन ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार शुभा जी!

      Delete
  12. Replies
    1. आपकी प्रतिक्रिया से सृजन को सार्थकता मिली । बहुत बहुत आभार सर!

      Delete
  13. सुंदर संदेशात्मक लघुकथा।
    बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी सराहना भरी अनमोल प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार पम्मी जी!

      Delete
  14. हमेशा की तरह गहन सृजन। गहन लेखन है आपका। आखिर तक कहीं नहीं ठहरा...बहुत अच्छा लिखा है आपने मीना जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार संदीप शर्मा जी!

      Delete
  15. संदेश देती बहुत सुंदर लघुकथा

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार अनुराधा जी।

      Delete
  16. अक्सर हम नई पीढ़ी को गलत समझते हैं। सार्थक संदेश देती लघुकथा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सृजन को सार्थक करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार मीना जी ।

      Delete
  17. बहुत सुन्दर एवं सार्थक संदेश देती लाजवाब लघुकथा....

    ReplyDelete
    Replies
    1. सृजन को सार्थक करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार सुधा जी ।

      Delete
  18. सुंदर चिंतन करने योग्य संदेश देती है ये कथा

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार भारती जी ।

      Delete
  19. बहुत सुंदर प्रिय मीना जी। दीपक तले अंधेरा यही है। आजकल कथित अभिजात्य वर्ग का यहीं महिला दिवस है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार प्रिय रेणु जी ।

      Delete
  20. महिला दिवस एक संदेश है ना कि-मनोरंजन। सार्थक एवं प्रेरक संदेश देती बहुत सुंदर लघुकथा मीना जी,सादर नमन आपको

    ReplyDelete
    Replies
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार कामिनी जी! सादर वन्दे।

      Delete
  21. बहुत सुन्दर सन्देश…प्राय: पर आलोचना से पूर्व बात व परिस्थितियों की गहराई भी समझ लें तो बेहतर है। हमेशा युवा- वर्ग को कोसना कहाँ तक सही है👍

    ReplyDelete
    Replies
    1. सत्य कथन उषा जी ! हार्दिक आभार 🙏

      Delete
  22. आदरणीया मैम, यह रचना दिल को छू गई । महिला दिवस केवल खा -पी कर खुशियाँ मनाने का दिन नहीं है , अपने कर्तव्य और अधिकार के प्रति जागरूक होने का दिन भी है । इन दिनों जहाँ युवा -वर्ग को सदैव कोस ही जाता है वहाँ ऐसी रचना न केवल हम युवाओं की कठिनाई को समझने का प्रयास करती है, साथ-ही - साथ हमें सदा कर्मठ रहने की प्रेरणा भी देती है। हृदय से आभार इस सुंदर रचना के लिए व आपको प्रणाम ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद अनन्ता आपको लघुकथा पसन्द आई । आपकी ऊर्जात्मक सराहना से सृजन सार्थक हुआ ।

      Delete
  23. कल रथ यात्रा के दिन " पाँच लिंकों का आनंद " ब्लॉग का जन्मदिन है । आपसे अनुरोध है कि इस उत्सव में शामिल हो कृतार्थ करें ।

    आपकी लिखी कोई रचना सोमवार 12 जुलाई 2021 को साझा की गई है ,
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जय जगन्नाथ मैम 🙏 सोमवार के पाँच लिंकों का आनन्द में सृजन को सम्मिलित करने हेतु सादर आभार

      Delete
  24. कम शब्दों में गहरी बात कहती लघु-कथा....

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रंशसात्मक प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार विकास जी।

      Delete
  25. प्रभावशाली लघु कथा, लेखन में सुन्दर प्रवाह - - साधुवाद सह।

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार आ.शांतनु सर ! सादर वन्दे 🙏

      Delete
  26. हम अपने आप में इतने व्यस्त हो जाते हैं कि दूसरों के बारे में कोई भी राय बना लेने से पहले कुछ नहीं सोचते। ऐसा बहुत से लोगों के साथ होता है। आपकी यह कहानी बहुत पसंद आई। आपको बहुत-बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  27. उत्साहवर्धन करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक
    आभार। वीरेन्द्र जी ।

    ReplyDelete
  28. बहुत बहुत सुन्दर सराहनीय

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार आलोक सर।

      Delete