Followers

Copyright

Copyright © 2022 "आहान"(https://aahan29.blogspot.com) .All rights reserved.

Saturday, May 29, 2021

"सोचा न था"

कैसे दमघोटू से दिन हैं । न बूंदों की छम-छम में हथेली पसार

कर हाथ भिगोने को मन करता है और न ही खिड़की से बाहर

बारिश की बूंदों को देखते हुए कोई किताब पढ़ने का । संगीत के

सुर भी अब  मन को अपनी और नहीं खींचते । कितनी ही बार

चाहा कुछ पढ़ना मगर रिक्त से बोझिल और उदास से वजूद

 पर एक डर है जो लिपटा है चादर सा ।

 'हैरीपॉटर'सीरीज  में जिक्र है दमपिशाचों का । जो बुरे जादूगरों

के सहयोगी हैं । जब ये आते हैं तो हर तरफ नकारात्मकता

की चादर फैल जाती है जादूगरों के समुदाय में । जितना

शक्तिशाली दमपिशाच उतना ही भय और नुकसान सीधे

सरल जादूगर समाज को । हर जादूगर के पास एक जादुई

छड़ी और कुछ मंत्र जो उनके गुणों  पर आधारित होते हैं जिनका 

प्रयोग वे शक्ति सामर्थ्य  के अनुसार करके दमपिशाचों से

निजात पाते हैं ।

सोचती हूँ कुछ कुछ वैसा ही दमपिशाच  है 

कोरोना वायरस भी । जो पिछले वर्ष के मार्च से अब तक  न

जाने कितनी ही जिन्दगियों को लील गया और अब भी उसका कहर जारी है । आरंभिक दिनों में मेरी सोच थी कि इक्कीसवीं सदी है

ये...अब साईंस ने बहुत उन्नति कर रखी है । महामारी है तो

खतरनाक लेकिन आज हम प्राचीन चिकित्सा पद्धति के भी बहुत

करीब हैं और मेडिकल व्यवस्थाएँ भी अति उन्नत हैं अतः  कोरोना महामारी पर नियंत्रण भी जल्दी  ही हो जाएगा । तब यह अहसास

भी नहीं था इस अज्ञातशत्रु के आगे सब बौने साबित हो जाएँगे ।

लगभग सवा साल के बाद भी कोरोना की स्थिति की

भयावहता जस की तस है ।

  खाली सा मन नकारात्मकता में उलझता जा रहा है ।  खुले

आसमान के नीचे प्रकृति को महसूस करना जैसे जागती

आँखों का सपना हो गया  मेरे जैसे लोगों के लिए जो पहले

से ही ढेर सारी बीमारियां पाले बैठे हैं ।

कभी दो हाथ की दूरी…, कभी छ: हाथ की दूरी..,एक मास्क…,

डबल मास्क.., हाथ धोते-धोते, सैनेटाइजर स्प्रे करते और नई

समस्याओं को न्योता दे रहे हैं हम । वैक्सीनेशन राहत की बात है

मगर ब्लड क्लोटिंग जैसे साइड इफेक्ट में उन लोगों का क्या जो

पहले से ही इस तरह की जेनेटिक बीमारियों से जूझ रहें हैं ।

पहले एक विश्वास था  बरगद की जड़ जैसा…,डॉक्टर ईश्वर तुल्य 

हैं ।और दक्ष आर्युवेदाचार्य हो तो संजीवनी आज भी विद्यमान है ।

उस विश्वास की जड न चाहते हुए भी अब  हिल रही है ।

जीवन को भरपूर जीने की चाह रखने वाला मन और कल्पनाओं

के कैनवास पर अक्षरों के रंग उकेर कर मनचाहा आकार देने

वाली सोच  कभी इतनी  मूक और बेबस हो जाएगी..

…, सोचा न था।

   

---

44 comments:

  1. बहुत ही सार्थक,समसामयिक तथा यथार्थपूर्ण लेख है,आपका मीना जी,बिल्कुल सच कहा आपने मैं भी अभी कोविड से गुजरने के बाद,सोचती हूं,कुछ लिखूं,कुछ नया पढूं,पर मन इतना अस्थिर है, कि कहीं ठहरता ही नहीं,बस ये लगता है,समय गुजरे और कुछ चमत्कार हो,और हम पहले जैसा महसूस कर पाएं,एक स्थिर जिंदगी की तलाश जारी है । मन को छू गाय आपका लेख ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप अब स्वस्थ हैं यह समाचार सुकून और खुशी वाला है।अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखिएगा । मन का खालीपन सृजनात्मकता को तो प्रभावित करता ही है ।सचमुच एक खराब समय है यह ..हम सब शीघ्रातिशीघ्र इस संकट से उबरें यही प्रार्थना है ईश्वर से ।अपना व अपनों का ख्याल रखिएगा जिज्ञासा जी!

      Delete
  2. बिलकुल सही लिखा है आपने।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार शिवम् जी ।

      Delete
  3. सच ही सबकी मनः स्थिति ऐसी ही हो रही है । चाहते हैं कि सोच को बदलने के लिए स्वयं को व्यस्त करें ।कुछ पढ़ें कुछ लिखें । पर कहाँ हो पा रहा । आज कई दिन बाद खुद को हिम्मत दिलाई कि कुछ ब्लॉग्स पढूँ ।
    बहुत सार्थक और सटीक लिखा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा आपने..व्यस्त रखना चाहते हैं मगर एकाग्रता ही नहीं आती मन भटकता रहता है । आप ख़्याल रखिएगा अपना और सृजनात्मक ऊर्जा बनाए रखिएगा । बहुत बहुत आभार मान भरी उपस्थिति हेतु । सादर वन्दे ।

      Delete
  4. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (30 -5-21) को "सोचा न था"( (चर्चा अंक 4081) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    --
    कामिनी सिन्हा

    ReplyDelete
    Replies
    1. चर्चा मंच पर सृजन सम्मिलित करने हेतु हार्दिक आभार कामिनी जी । सादर नमन ।

      Delete
  5. जब हर तरफ से सौ टका उम्मीद की कोई किरण निकल कर अँधेरे को दूर करने में पूर्ण सक्षम न हो तो न चाहते हुए भी नकारात्मक ऊर्जा घेर ही लेती हैं मन को
    मन बहलाने का बहाना ढूँढ़ते हैं सब लेकिन हालातों के मारे मन पर कौन काबू रख पाता है
    बाहर से कोई कुछ भी बोले लेकिन अंदर से सबका हाल एक जैसा है

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी सत्य कथन कविता जी । उम्मीद की किरण लक्ष्य तक पहुँचने से पहले धूमिल होने पर अनिश्चितता का विचार ही हौसलें पस्त कर देता है । हृदय से असीम आभार आपकी मान भरी उपस्थिति हेतु । ख़्याल रखिएगा अपना । सादर नमन ।

      Delete
  6. बिल्कुल सत्य

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार सरिता जी ।

      Delete
  7. जीवन को भरपूर जीने की चाह रखने वाला मन और कल्पनाओं

    के कैनवास पर अक्षरों के रंग उकेर कर मनचाहा आकार देने

    वाली सोच कभी इतनी मूक और बेबस हो जाएगी..

    …, सोचा न था।
    बिल्कुल सही कहा, मीना दी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार ज्योति जी ।

      Delete
  8. समय का पहिया एक बार फिर घूमेगा मीना जी...। ये तय है क्योंकि कल ऐसा नहीं था आज है लेकिन कल नहीं रहेगा, ये दौर कठिन है इसे जीने के लिए सकारात्मकता का होना बहुत जरुरी है...। आपकी सकारात्मकता ये है कि आप अच्छा लिखती हैं....लिखें और खूब लिखें...।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी आशा भरी समझाइश के लिए और सृजन को सम्मान देने के लिए हृदय से असीम आभार संदीप जी🙏

      Delete
  9. बहुत ही सारगर्भित आलेख..!
    शायद ही कोई इससे अछूता है, कोई न कोई चिंता सबको खाये जा रही है। सबसे अधिक मन विचलित होता है उन युवाओं के लिए जो डिग्री हाथ में लेकर घर बैठे हैं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार सरस जी ! आपका कथन सत्य है कि युवाओं की स्थिति वास्तव में चिंताजनक है । चिंता से कोई भी तो अछूता नहीं है ।

      Delete
  10. सचमुच कभी सोचा न था कि ऐसा भी हो सकता है...अब जब सब ठीक होने की आस लगायी तो दूसरी लहर ने और भी प्रचण्ड रूप दिखाकर भयावहता की हदें ही पार कर दी...और अब तीसरी लहर की सम्भावना सुन निराशा ही घेर रही है...बस एक ही प्रार्थना है कि सब ठीक हो जाय
    आप भी अपना ख्याल रखिएगा मीना जी!
    अनंत शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप भी ख़्याल रखिएगा सुधा जी ! सच में कोरोना की दूसरी लहर ने भयावहता की हदें ही पार कर दी । ईश्वर से प्रार्थना है कि इस प्रकोप को शांत करे और मानव जाति की रक्षा करे ।

      Delete
  11. सार्थक रचना ! प्रकृति बार-बार चेताती रही पर हम सुनने को तैयार ही नहीं हुए ! अब कोप तो सहना ही पडेगा ! इतनी विकट परिस्थियों में नकारात्मकता भी दिलो-दिमाग पर कब्ज़ा कर बैठ गई है पर मानव ने हर बार अपनी जिजीविषा के बल पर अपने को संभाला है ! ये काले बादल भी जरूर छंटेंगे ! प्रभु पर विश्वास रखें, अटूट !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आशा का संचार करती समझाइश के लिए और सृजन को सम्मान देने के लिए हृदय से असीम आभार सर!

      Delete
  12. सामायिक परिस्थितियों में कमोबेश सबकी यही सोच है मीना जी, हमें सकारात्मक तो होना ही होगा जो हो रहा है उसे स्वीकार ने की हिम्मत जुटानी होगी ।
    हर बार ऐसा करते भी हैं पर फिर एक झटका सभी आशा महल गिरा देता है।
    हर परिस्थिति से सामना करने की हिम्मत पैदा करनी होगी ।
    हमारी सोच के साथ हमारी जीवनी शक्ति का सीधा संबंध है।
    और भविष्य अपने गर्भ में क्या लिए बैठा है हम अनभिज्ञ हैं ।
    आपका लेख यथार्थ और सटीक चित्रण खींच रहा है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. समझाइश भरी स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिए हृदय से असीम आभार कुसुम जी ।

      Delete
  13. जी सही कहा आपने... सब कुछ किसी ऐसी डिसटोपिक दुनिया सा लग रहा है। लोग काफी असावधान भी हो चुके हैं। पहले जब यह आया था तो डर काफी था और इस कारण लोग ऐतिहात रख रहे थे। लेकिन दूसरी लहर से पहले चूँकि वैक्सीन भी आ गयी थी तो लोग भी काफी हद तक असावधान भी हो गये थे। और इसी को भुगत रहे हैं। न जाने कब तक यह चलेगा। लेकिन वक्त है गुजर जायेगा। घाव देगा लेकिन गुजर जायेगा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. गलतियों और लापरवाही का खामियाजा देख कर अगर अब भी इन्सान समझ जाए तो अच्छा है विकास जी । आपकी सारगर्भित प्रतिक्रिया के लिए हृदय से असीम आभार ।

      Delete
  14. जीवन को भरपूर जीने की चाह रखने वाला मन और कल्पनाओं

    के कैनवास पर अक्षरों के रंग उकेर कर मनचाहा आकार देने

    वाली सोच  कभी इतनी  मूक और बेबस हो जाएगी..

    …, सोचा न था।

    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया से सृजन सार्थक हुआ । हार्दिक आभार मनोज जी ।

      Delete
  15. 'हैरीपॉटर'सीरीज में जिक्र है दमपिशाचों का । जो बुरे जादूगरों

    के सहयोगी हैं । जब ये आते हैं तो हर तरफ नकारात्मकता

    की चादर फैल जाती है
    सही कहा आपने मीना जी,ऐसी ही मनःस्थिति हो गयी है ,सादर नमन

    ReplyDelete
    Replies
    1. लम्बे समय से महामारी की परिस्थितियों की विषमता हौसलों पर भारी पड़ रही। है हम सब के लिए...आपकी सारगर्भित प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार कामिनी जी । सादर वन्दे ।

      Delete
  16. सचमुच हम सभी बेबस हो गए हैं. कितने अपनों को खो चुके हैं. सारी पैथी की दवाएँ बेअसर हो गईं. वैक्सिन के बाद भी लोग मर रहे. बहुत दुखद स्थिति. सारे विश्वास चूर हो गए. अब आगे और क्या होगा कौन जाने.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सत्य कहा आपने .., परिस्थितियों के आगे बेबस ही तो हैं हम । ईश्वर पर भरोसा है और उनसे प्रार्थना है कि वे हम सब की रक्षा करें ।

      Delete
  17. फ़िर लौटेगी वह सुबह।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका कथन सत्य और शुभ हो सर ! बहुत बहुत आभार आपकी आशा का संचार करती प्रतिक्रिया हेतु 🙏

      Delete
  18. बस यही तो जीवन है कभी दुःस्वप्न और कभी रेशमी अहसास से भरी सुबह का इंतज़ार - - प्रभावशाली लेखन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जीवन को परिभाषित करती सारगर्भित और सराहना भरी प्रतिक्रिया हेतु हार्दिक आभार शांतनु सर ।

      Delete
  19. सब की मनोदशा व्यक्त कर दी है आपने ,समसामयिक रचना |

    ReplyDelete
    Replies
    1. ब्लॉग पर हार्दिक स्वागत आपका 🙏 आपकी सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया हेतु हृदयतल से आभार अनुपमा जी!

      Delete
  20. आपने सभी के दिल की बात कही है। इस समय सबसे बड़ा संकट विश्वास का है। हम नाउम्मीद हो नहीं रहे बल्कि हो चुके हैं। आशावादी और सकारात्मक बातें सहसा खोखली-सी लगने लगी हैं। रोज़ किसी-न-किसी अपने के संसार से चले जाने का समाचार मिलता है। रोज़ कोई-न-कोई नकारात्मक समाचार मिल जाता है - प्रशासनिक निर्णयों एवं नीतियों के माध्यम से। न बालकों के लिए कोई अच्छी सूचना आती है, न युवाओं के लिए, न प्रौढ़ों के लिए। अब जियें तो जियें कैसे?

    ReplyDelete
    Replies
    1. सभी के मन में कशमकश समान ही है । जीवन शैली और सोच का नजरिया ही बदल गया इस महामारी के समय। आपकी सारगर्भित प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार जितेन्द्र जी ।

      Delete
  21. अद्भुत मीना जी, हम सबके मन की बात को इतनी सरलता से आपने पटल पर रख द‍िया। वाSSSSSह

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया के लिए आभारी हूँ अलकनंदा जी 🙏

      Delete
  22. कमोबेश इसी मनोदशा से गुजर रही हूँ। ऑनलाइन क्लास में पढ़ाना नीरस लग रहा है। बच्चों की अनुपस्थिति खल रही है। आर्थिक संकट से गुजरते लोग आए दिन नजरों के सामने आते हैं। बेबसी में मुठ्ठी भींच कर रह जाना पड़ता है। जिंदगी थम सी गई है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. कोरोना काल हम सब के लिए भयावह है मीना जज!सच कहा आपने कमोबेश हम सभी एक जैसी मानसिकता से गुजर रहे हैं । ऑनलाइन पढ़ने और पढ़ाने की अवधि कितनी नीरस और परेशानी भरी है समझ सकती हूँ । सच में जिन्दगी थमी हुई सी है ।

      Delete