Followers

Copyright

Copyright © 2022 "आहान"(https://aahan29.blogspot.com) .All rights reserved.

Wednesday, March 3, 2021

"पगडंडियाँ"

 


 "सभी अपना-अपना काम करें..इधर-उधर तांका-झांकी

नहीं ।"-- परीक्षा-कक्ष में पहुँचते ही प्राध्यापक विनय ने आवश्यक कार्यो की पूर्ति करते हुए परीक्षार्थियों को  निर्देश दिया । 

घंटे भर बाद किसी परीक्षार्थी ने पूरक उत्तर-पुस्तिका की मांग

की । विनय की पीठ जैसे ही परीक्षार्थियों की तरफ हुई ,

कानाफूसी के स्वर खामोशी को भंग करने लगे ।

 विनय ने गंभीरता से सबको अपना अपना काम करने का आदेश दे कर फिर से बैठक व्यवस्था के मध्य कक्ष में घूमना शुरू कर दिया । चौकसी अपने चरम पर थी । वह देख रहा था कि जैसे-जैसे समय आगे खिसक रहा है  वैसे वैसे पूरक उत्तरपुस्तिकाओं की मांग और फुसफुसाहटें बढ़ रही हैं । अनुशासन और नकल रोकने के लिए अब दंड की घोषणा अनिवार्य हो गई थी ।

"अब की बार किसी को सिर घुमाते या बात करते देखा तो उत्तर-पुस्तिका छीन कर कक्षा -कक्ष से बाहर कर दूंगा ।"--  विनय ने सख़्ती से कहा ।

 सर ! 'पगडंडियों का जमाना है ।'- किसी परीक्षार्थी ने तपाक से उत्तर दिया और उसी के साथ दबी-दबी हँसी परीक्षा कक्ष के हर कोने में फैलने की कोशिश करने लगी ।

"पगडंडियों पर भागने वाले अक्सर मुँह के बल भी गिरा

करते हैं।"- शांत भाव से विनय ने नसीहत दी।

      शेष समयावधि में हँसी और कानाफूसी सिमट कर कक्ष की दीवारों में समा गई और पंखे की खड़-खड़  विनय के जूतों की आवाज के साथ सुर-ताल बिठाने के प्रयास में लगी रही ।


***

56 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज बुधवार 03 मार्च 2021 को साझा की गई है.........  "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" सृजन को साझा करने के लिए सादर आभार यशोदा जी।

    ReplyDelete
  3. वाह... दिलचस्प लघुकथा

    बधाई प्रिय मीना जी 🙏

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से असीम आभार प्रिय वर्षा जी 🙏

      Delete
  4. सारगर्भित एवम रोचक कहानी..उत्कृष्ट रचना..

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से असीम आभार जिज्ञासा जी!

      Delete
  5. वाह! दिलचस्प,सारगर्भित,सुन्दर रचना मीना जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से असीम आभार सधु चन्द्र जी।

      Delete
  6. प्रेरक लघु कथा । विचारणीय ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन करती आपकी बहुमूल्य प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से असीम आभार 🙏

      Delete
  7. वाह!गज़ब दी।
    बहुत ही सुंदर और सराहनीय।

    पगडंडियों पर भागने वाले अक्सर मुँह के बल भी गिरा
    करते हैं।"- शांत भाव से विनय ने नसीहत दी।..प्रेरक लघुकथा।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी अनमोल ऊर्जावान प्रतिक्रिया के लिए सस्नेह आभार अनीता जी।

      Delete
  8. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 04.03.2021 को चर्चा मंच पर दिया जाएगा| आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी
    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. चर्चा मंच पर सृजन साझा करने हेतु सादर आभार आदरणीय
      दिलबाग सिंह जी ।

      Delete
  9. Replies
    1. हार्दिक आभार शिवम् जी ।

      Delete
  10. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" ( 2057..."क्या रेड़ मारी है आपने शेर की।" ) पर गुरुवार 04 मार्च 2021 को साझा की गयी है.... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!



    ReplyDelete
    Replies
    1. "पांच लिंकों का आनन्द" में सृजन साझा करने हेतु सादर आभार आदरणीय रवीन्द्र सिंह जी ।

      Delete
  11. "पगडंडियों पर भागने वाले अक्सर मुँह के बल भी गिरा करते हैं।"

    गिर ही तो रहें है और कितना गिरेंगे पता नहीं,सुंदर संदेश देती लघु कथा,सादर नमन मीना जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. चिंतनपरक हृदयस्पर्शी प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार कामिनी जी । सादर नमन ।

      Delete
    2. वाह!मीना जी ,सुंदर संदेशात्मक सृजन ।

      Delete
    3. आपकी सारगर्भित प्रतिक्रिया से सृजन सार्थक हुआ हार्दिक आभार शुभा जी !

      Delete
  12. सारगर्भित व शिक्षाप्रद रचना - - नमन सह।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से आभार शांतनु सर ! सादर नमन ।

      Delete
  13. Replies
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से आभार सर!

      Delete
  14. वाह!मीना जी एक पंक्ति में पुरा सागर कह दिया आपने,आज ये पगडंडियों पर चलकर सब कुछ हासिल करने की दौड़ कितना और कितनों को गिरा ही तो रही है।
    बहुत गहन चिंतन देती सुंदर लघुकथा।
    सस्नेह।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी हृदयस्पर्शी ऊर्जावान प्रतिक्रिया से सृजन को सार्थकता मिली । हृदयतल से हार्दिक आभार । सस्नेह ।

      Delete
  15. बहुत सुंदर,प्रेरक लघुकथा सखी 👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया से सृजन को मान मिला हृदयतल से आभार सखी 🙏🌹

      Delete
  16. बोध देती सुंदर लघु कथा

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया से सृजन को मान मिला हृदयतल से हार्दिक आभार 🙏

      Delete
  17. सुंदर सन्देश देती लघुकथा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया से सृजन को मान मिला हृदयतल से हार्दिक आभार ज्योति जी ।

      Delete
  18. बहुत अच्छी लघुकथा है यह आपकी मीना जी । मुझे बड़ी पसंद आई ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से आभार जितेन्द्र जी!

      Delete
  19. दीर्घ अर्थ वाली लघुकथा

    ReplyDelete
    Replies
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से आभार सर!

      Delete
  20. बहुत अच्छी लघुकथा
    बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से आभार सर!

      Delete
  21. बहुत सुन्दर लघुकथा

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदयतल से आभार मनोज जी ।

      Delete
  22. Replies
    1. हार्दिक आभार कुमार गौरव अजीतेन्दु जी ।

      Delete
  23. बढ़िया लघु कथा है। आपको अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की ढेरों शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी सारगर्भित प्रतिक्रिया ने सृजन को सार्थकता प्रदान की
      वीरेंद्र जी । हार्दिक आभार प्रतिक्रिया एवं शुभकामनाओं हेतु🙏

      Delete
  24. बहुत सुन्दर सारगर्भित लघुकथा।
    पगडंडियों पर भागने वाले अक्सर मुँह के बल भी गिरा करते हैं।
    सुन्दर संदेशपरक....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी सारगर्भित प्रतिक्रिया ने सृजन को सार्थकता प्रदान की
      हृदयतल से हार्दिक आभार सुधा जी ।

      Delete
  25. सुन्दर लघुकथा, संदेशप्रद

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार विमल कुमार शुक्ल जी ।

      Delete
  26. सुंदर और प्रेरक लघु कथा, मीना जी नमस्कार

    ReplyDelete
    Replies
    1. नमस्कार ज्योति जी 🙏
      आपकी स्नेहिल उपस्थिति से सृजन को सार्थकता मिली ।

      Delete
  27. परीक्षा भवन की यादें ताजा हो गई.. बहुत खूब

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार हरीश जी ।

      Delete
  28. बहुत मनोरंजक दिशा बोध करती सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  29. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से आभार सर!

    ReplyDelete